BE full form in Hindi: BE ka full form तथा BE Course क्या है

BE Full Form in Hindi

BE Full Form in Hindi, BE ka Full Form kya hai, BE kya hai, BE Course details.

आज के लेख में हम शिक्षा के क्षेत्र की एक ऐसी पढ़ाई के बारे में जानेंगे जो भारत में बहुतायत में की जाती है तथा लोगों का पसंदीदा शिक्षा क्षेत्र भी वह है।

दोस्तो हमारे देश में गरीबी की वजह से शिक्षा का स्तर भी गिरा हुआ है। हालाँकि पहले से इसमे काफी सुधार हुआ है लेकिन अभी और सुधार की जरूरत है

इसी लिए शिक्षा के स्तर को बढाने के लिए सरकार दिन प्रतिदिन अपनी कार्यक्षमता को बढ़ा भी रही है। इसके प्रति लोगो को सजग भी कर रही है।

लोगों में चेतना का प्रसार भी हो रहा है लेकिन वह बहुत धीमा है इस लिए भारत में जिन लोगो को पढने का मौका मिलता है या जो पढने के लिए Engineering का क्षेत्र चुनते है उस में Bachelor of Engineering एक ऐसी डिग्री है जिससे बहुत बड़ी संख्या में लोग पढना चाहते है और समझना चाहते है।

दोस्तों, आज के लेख में हम बात करेंगे कि BE क्या है, BE full form क्या है, यह क्या होती है और सम्बंधित संस्थानो में इससे रिलेटेड क्या पढाया जाता है तथा BE कब की जाती है, आपको इन सब सवालों के जवाब आज के इस लेख में मिलेंगे।

BE Full Form in Hindi (BE का full form)

BE का फुल फॉर्म Bachelor of Engineering है। जिसका हिंदी मे अर्थ है अभियांत्रिकी मे स्नातक (बैचलर इन इंजीनियरिंग). यह एक प्रोफेशनल डिग्री प्रोग्राम है जो 4 साल की अवधि का होता है इसमें 8 सेमेस्टर होते हैं।

BE पाठ्यक्रम मुख्य रूप से वैज्ञानिक सिद्धांत अवधारणाओं और प्रयोगों पर केंद्रित है, बाद में इसे एक वास्तविकता बना देता है

Engineering की डिग्री को दुनिया भर के प्रतिष्ठित पाठ्यक्रमों में से एक माना जाता है क्योंकि यह प्रौद्योगिकी में नवीनतम रुझानों को लागू करके देशों के development में मदद करता है।

Mechanical Engineering, Electrical Engineering, Civil Engineering शाखाओं को Engineering की मातृ शाखा माना जाता है।

Computer Science Engineering, Electronics & Communication Engineering, Mechatronics, Aerospace Engineering आदि सबसे अधिक डिमांड वाली शाखाएँ हैं जो डोमेन शाखाओं से प्राप्त होती हैं। इसमे एडमिशन के लिए 10 + 2 मे अनिवार्य विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित होना चाहिए।

Read this also: BBA Full Form in Hindi

BE Full Form: BE Course क्या है

भारत में, Bachelor of Engineering (BE) course एक पेशेवर स्नातक डिग्री है जो चार साल के Engineering की पढ़ाई  पूरी होने के बाद प्रदान की जाती है। कई भारतीय कॉलेज BE के बजाय Bachelor of Technology (B.Tech) के नाम से Engineering विषयों में डिग्री प्रदान करते हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) जैसे राष्ट्रीय महत्व के संस्थान भी BE का उपयोग करने के बजाय Engineering डिग्री के लिए B.Tech नामकरण का उपयोग करते हैं,

लेकिन डिग्री का जो भी नाम इस्तेमाल किया जाता है, उनके पाठ्यक्रम भारतीय विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड (एनबीए) जैसे सक्षम प्राधिकरण द्वारा निर्धारित मानक पाठ्यक्रम का पालन करता है।

नामकरण को छोड़कर BE और बी.टेक के पाठ्यक्रम, उद्देश्यों और सीखने के परिणामों में कोई अंतर नहीं है।

आम तौर पर प्रथम वर्ष (पहले दो सेमेस्टर) सभी शाखाओं के लिए समान होता है और इसमें अध्ययन के समान विषय होते हैं। प्रथम वर्ष के बाद पाठ्यक्रम बदल जाते है।

BE Courses List: कुछ सामान्य  ब्रांच  की लिस्ट नीचे दी गयी हैं जो BE के अंतर्गत आते हैं-

Civil Engineering Chemical Engineering
Mechanical Engineering Biotechnology
Electrical & Electronics Engineering Metallurgy Engineering
Electronics & Communication Engineering Aeronautics Engineering,
Instrumentation & Control Engineering Aerospace Engineering
Computer Science & Engineering Biochemical Engineering,
Information Technology Biomedical Engineering,
Petroleum Engineering Agriculture Engineering

Civil Engineering

Engineering की इस शाखा में आपको डिसिप्लिन सिखाया जाता है। डिजाईन के साथ, कंस्ट्रक्शन, मेंटेनेंस के साथ भौतिकी ठाठ प्राकृतिक वातावरण में रोड, ब्रिज, कैनाल, डैम, एयरपोर्ट, सीवरेज सिस्टम तथा पाइपलाइन सिस्टम के बारे में आपको पढाया जाता है।

इंजीनियरिंग के इस इस ब्रांच में काबिल लोगों केलिए बहुत स्कोप है।

Mechanical Engineering

Mechanical Engineering के अन्दर आप डिजाईन, डेवलपमेंट, कंस्ट्रक्शन तथा Mechanical औजारों और थर्मल सेंसर की टेस्टिंग

और किसी भी तरह से Technology और Mechanical Engineering को मिलकर आपको सिखाया जाता है जिससे आप सर्वथा उचित परिणाम दे पाए।

Electricals और Electronics Engineering

अक्सर इलेक्ट्रिकल के साथ में इलेक्ट्रॉनिक्स जोड़ दिया जाता है लेकिन जो इलेक्ट्रिकल इंजीनियर होते है उनका पूरा ध्यान किसी भी तरह से पॉवर का एक बहुत बड़े स्तर पर प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन करना होता है।

Electronics & Communication Engineering

Electronics & Communication Engineering में research करना, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को डिजाईन, डेवलप तथा टेस्टिंग करना आपको सिखाया जाता है

और भी विभिन्न प्रकार की Engineering होती है जिसके धारण करने से आप बहुत ही अच्छा ज्ञान हासिल कर सकते है।

भारत में BE Course की Fees

पाठ्यक्रम शुल्क विश्वविद्यालयों से विश्वविद्यालयों में उनके मानकों के आधार पर भिन्न होता है। औसत Bachelor of Engineering [BE] कोर्स की फीस 25,000 रुपये से 2 लाख रुपये प्रति वर्ष है।

BE Salary: BE Salary in India (भारत में BE Salary)

BE पूरा करने के बाद मिलने वाला वेतन पैकेज छात्र के अनुभव और विशेषज्ञता के आधार पर भिन्न भिन्न होता है।

औसत Bachelor of Engineering वेतन की बात करे तो यह INR 6.53 लाख प्रति वर्ष होता है जो अनुभव बढ़ने के साथ बढ़ता रहता है। 

BE Course

BE (full form: Bachelor of Engineering) एक चार साल का कोर्स है जो आम तौर पर Electrical, Mechanical, Civil, Computer Science और अन्य विभिन्न शाखाओं में विभाजित होता है।

BE के लिए पाठ्यक्रम मुख्य रूप से प्रौद्योगिकी की पारंपरिक नींव के साथ मिश्रित सैद्धांतिक ज्ञान को क्रिया में परिवर्तित करने पर केंद्रित है।

नीचे उल्लिखित विश्वविद्यालय बी. ई. पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं:

  • IIT बॉम्बे
  • IIT दिल्ली
  • IIT खड़गपुर
  • बिट्स, पिलानी , आदि भारत के शीर्ष Engineering कॉलेजों में से हैं।

BE पाठ्यक्रम की अवधि चार वर्ष है और नीचे उल्लिखित शाखाएं हैं जो BE course के अंतर्गत आती हैं:

  • Electrical & Electronics Engineering 
  • Computer Science Engineering
  • Mechanical Engineering
  • Civil Engineering
  • Electronics & Communication Engineering
  • Information Technology

4 वर्ष के कोर्स के पहले साल का सिलेबस सभी ब्रांचो के लिए लगभग समान ही होता है।

1st year पास करने के बाद 2nd year से सभी छात्रों का सिलेबस बदल जाता है तथा उनके स्पेशलाइज्ड ब्रांच के लिए निर्धारित सब्जेक्ट्स को पढ़ाया जाता है।

इस कोर्स के लिए वही छात्र आवेदन कर सकता है जिसने 10+2 मे साइंस से 60% मार्क्स से उत्तीर्ण हुआ हो।

Mahindra Automobiles, Tata Motors, Accenture ऐसे कुछ कंपनीज है जहां आप BE करने के बाद नौकरी पर लग सकते है।

BE करने के बाद आपको इन कंपनीज में कुछ प्रतिभाशाली व्यक्तियों के साथ काम करने का भी मौका मिलेगा, और आपका पद एक software Engineer, ग्रेजुएट Engineer के रूप मे होगा।

BE क्यों चुने? (Why choose to BE)

Computer Science, Electronics & Communication, Civil, Electrical और Mechanical Engineering ब्रांच  मे छात्र सबसे अधिक एप्लाई करते है क्योंकि इसमे रोजगार के काफी अवसर हैं और इसके अतिरिक्त फाॅरेन कंट्रीज में उच्च अध्ययन भी कर सकते है।

IT क्षेत्र मे विकास के साथ, सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर इंजीनियरों की आवश्यकता बढ़ रही है, जिससे अध्ययन का यह विशेष क्षेत्र करियर निर्माण के लिए एक आकर्षक क्षेत्र बनकर उभरा है।

Software Engineer, Software Developer, और अन्य ऐसे पद, इंजीनियरिंग स्नातक  [BE] के लिए प्रतिष्ठित और सम्मानजनक पोस्ट्स में से एक हैं।

इस कोर्स द्वारा प्रदान किए जाने वाले प्रमुख लाभ हैं:

Creative Freedom (रचनात्मक स्वतंत्रता)

  • नौकरी की सुरक्षा
  • उच्च लाभप्रदता
  • बड़े बदलाव को प्रभावित करना

कुछ प्रमुख टेक आधारित कंपनी जैसे जनरल इलेक्ट्रिक, बॉश, एक्सेंचर, ऑडी, बीएमडब्ल्यू, जैसी कंपनियों के साथ काम करना Bachelor of Engineering [BE] Course के लिए फॉर्म भरने वाले किसी भी आवेदक के लिए बहुत अच्छा अनुभव होता है।

किसी व्यक्ति के जाॅब ग्रोथ और भविष्य में प्लेसमेंट के अवसर को बढ़ाने के लिए संस्थान से इंटर्नशिप करना भी बेहतर होता है।

BE ग्रेजुएट छात्र आगे की पढ़ाई के लिए M.E./M.Tech.( Master of Engineering/Master of Engineering) के लिए आयोजित परीक्षा को पास करके उच्च अध्ययन का विकल्प चुन सकते हैं।

BE पाठ्यक्रम तैयारी कैसे करें?

शीर्ष Engineering कॉलेजों में प्रवेश पाने के लिए, उम्मीदवारों को जल्द से जल्द अपनी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

अधिकांश प्रवेश परीक्षाओं में भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित से सीबीएसई के 11 और 12वीं दोनों भाग होंगे।

कुछ विश्वविद्यालय मे एडमिशन के लिए आयोजित परीक्षाओं में उम्मीदवारों के मौखिक ज्ञान (Verbal) की जांच के लिए अंग्रेजी भाषा का एक पार्ट भी होता है।

प्रश्न कठिनाइयां परीक्षा से परीक्षा निर्भर करती है।

उदाहरण के लिए, जेईई मेन परीक्षा के लिए न केवल NCERT पुस्तकों की Fundamental Principle का उचित ज्ञान, बल्कि विभिन्न परिदृश्यों की समस्याओं में इसे लागू करना भी आना चाहिए। BE प्रवेश परीक्षाओं को क्रैक करने के लिए कुछ उपयोगी टिप्स नीचे सूचीबद्ध हैं:

Exam Pattern की स्पष्ट समझ:

योजना शुरू करने से पहले, उसे विशेष प्रवेश परीक्षा पैटर्न का उचित ज्ञान होना चाहिए। जैसे अधिकांश प्रवेश परीक्षाओं में 11 और 12वीं के विषय होते हैं, इन दो वर्षों से लिए गए प्रश्नों का प्रतिशत परीक्षा से परीक्षा में भिन्न होता है। इसलिए, प्रवेश परीक्षा पैटर्न के साथ स्पष्ट होना चाहिए कि कौन काम करना चाहता है।

समस्या-समाधान:

सैद्धांतिक ज्ञान को गणितीय या तार्किक तरीके से लागू करना अधिकांश प्रवेश परीक्षाओं को पास करने के लिए बहुत आवश्यक कौशल है।

इसलिए इन कौशलों को प्राप्त करने के लिए, केवल पाठ्यक्रम की पुस्तकों पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। इसके बजाय, उसे समस्या-संबंधी पुस्तकों का संदर्भ लेना चाहिए और अवधारणा को समस्यात्मक तरीके से समझना चाहिए।

Time Management:

एक गलत उत्तर देने से Ranking Score में काफी अंतर हो जाता है। इसलिए, दिए गए सही option की अधिकतम संभावना वाले सभी प्रश्नों का प्रयास करना बहुत आवश्यक है। जो नियमित अभ्यास और कड़ी मेहनत से ही संभव हो सकता है।

कुछ संदर्भ पुस्तकें जो Engineering प्रवेश परीक्षा के लिए सहायक हो सकती हैं, नीचे सूचीबद्ध हैं:

1. NCERT भौतिकी

2. HC Verma Volume 1

3. HC Verma Volume 2

4. सामान्य भौतिकी में आईई इरोडोव समस्या

5. रेसनिक हॉलिडे

6. बालाजी भौतिकी में उन्नत समस्याएं

7. एनसीईआरटी रसायन विज्ञान

8. ओपी टंडन फिजिकल केमिस्ट्री

9. ओपी टंडन अकार्बनिक रसायन विज्ञान

10. ओपी टंडन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री

11. आरसी मुखर्जी शारीरिक समस्याएं भौतिकी

12. नरेंद्र अवस्थी द्वारा बालाजी एडवांस्ड प्रॉब्लम्स इन फिजिकल केमिस्ट्री

13. JDLee अकार्बनिक रसायन विज्ञान

14. मॉरिसन बॉयड और भट्टाचार्जी द्वाराकार्बनिक रसायन

15. बालाजी अकार्बनिक रसायन विज्ञान में उन्नत समस्याएं विनोद कुमार जायसवाल द्वारा

16. JEE के लिए सोलोमन एंड फ्रायल की ऑर्गेनिक केमिस्ट्री (Chemistry)

17. पी. बहादुर या पीटर एटकिंस द्वारा भौतिक रसायन विज्ञान

18. एमएस चौहान द्वारा कार्बनिक रसायन विज्ञान में बालाजी उन्नत समस्याएं Advanced

19. RD Sharma

20. अरिहंत JEE Mains + उन्नत श्रृंखला [एसके गोयल और अमित एम अग्रवाल द्वारा 5-6 पुस्तकों का सेट]

21. विनोद गुप्ता + पंकज जोशी द्वारा बालाजी गणित में उन्नत समस्याएं

BE Subjects

BE पाठ्यक्रम के विषय अलग-अलग विशेषज्ञता के अनुसार लिए जाते हैं। हालांकि, सभी शाखाओं के लिए प्रथम वर्ष के विषय समान होंगे।

BE प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रम के लिए विषयों की सूची नीचे सूचीबद्ध है:

· Engineering Physics

· Calculating Linear Algebra

· Engineering Chemistry Science

· Civil Engineering and elements of mechanics

· Engineering Graphics

· Basic Electrical Engineering

· Technical English

· Advance Calculus and numerical methods

· C- Programming

· Basic Electronics

· Elements of Mechanical Engineering

· Environmental Science

·Basic Ethics and Law

BE Civil Engineering पाठ्यक्रम के अंतर्गत आने वाले विषय नीचे दिए गए हैं:

· बिल्डिंग Technology

· संरचनात्मक विश्लेषण

· तरल यांत्रिकी

· भू – तकनीकी Engineering

· परिवहन Engineering

· पर्यावरणीय Engineering

· संरचनात्मक डिजाइन

· आरसी संरचनाओं के आरेखण का डिजाइन

· उन्नत फाउंडेशन डिजाइन

· हाइड्रोलिक संरचना का डिजाइन

· भवन रख – रखाव

· सर्वेक्षण और रिमोट सेंसिंग

· बांध Engineering

· समुद्री और तटीय Engineering

· वास्तुकला और नगर योजना

· निर्माण Engineering और प्रबंधन

· भूजल जल विज्ञान

· संरचनाओं की जांच

BE Mechanical Engineering पाठ्यक्रम विषयों की सूची नीचे सूचीबद्ध है:

· Engineering Thermodynamics

· Electrical drive and control

· Fluid Mechanics and Machinery

· Transformation and Partial Differential Equations

· Computer Aided Machinery Drawing

· Kinematics of machinery

· Production technology

· Engineering Metallurgy

· Thermal Engineering

· Strength of materials and fluid mechanics

· Design of machine elements

· Metrology and Measurement

· Mobility of machines

· Transmission system design

· Heat and Mass Transfer

· Limited element analysis

· Hydraulic & Pneumatic

· Power Plant Engineering

· Mechatronics

· Principles of Management

BE में नौकरी के अवसर: (Job Opportunity in BE)

Engineering में करियर की तलाश करने वालों के लिए बहुत सारी नौकरियां उपलब्ध हैं। किसी व्यक्ति द्वारा चुनी गई विशेषज्ञता के आधार पर नौकरियों की भूमिका अलग-अलग होगी। सबसे प्रसिद्ध और ट्रेंडिंग प्रकार के Engineering करियर नीचे सूचीबद्ध हैं:

· Software Engineer

· Test Engineer परीक्षण अभियंता

· Railway Engineer

· Construction Engineer (भवन – निर्माण अभियंता)

· Site Engineer (स्थल अभियन्ता)

· Statistics Scientist (आँकड़े वाला वैज्ञानिक)

· System Developer

· Mechatronics Engineering (मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियर)

· Structural Engineer (संरचनात्मक इंजीनियर)

· Sound Engineer

· Materials Engineer (सामग्री अभियंता)

· Aerospace Engineer

· Nuclear Engineer (परमाणु अभियंता)

· Petroleum Engineer (पेट्रोलियम अभियंता)

· Marine Engineering Officer (समुद्री अभियांत्रिकी अधिकारी)

· Naval Weapons Engineering Officer (नौसेना हथियार अभियांत्रिकी अधिकारी)

· Marine Surveyor (समुद्री सर्वेक्षक)

· Landscape Architects (लैंडस्केप आर्किटेक्ट्स)

· Construction Manager (निर्माण संचालक)

· Architect (वास्तुकार)

· Electrical Design Engineer (विद्युत डिजाइन इंजीनियर)

· Electrical & Embedded

BE Course Salary

औसत BE वेतन INR 6.53 लाख प्रति वर्ष है । Specialization के हिसाब से salary package में बदलाव होता है। कार्य का अनुभव और कौशल भी अच्छे वेतन का एक कारक है।

तो आज के लेख में हमने BE  Full Form in Hindi, BE kya hai, BE Course, Salary के बारे में विस्तार से जाना। यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया इसे अपने मित्रों तक जरूर शेयर करे। 

आपके एक शेयर से हमे प्रोत्साहन मिलेगा।

धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *